आप का स्वागत है    01 जुलाई, 2022     भाषा: English | हिंदी
फ़ॉन्ट का आकार : | अ- | अ+
   
JMI Hindi TopSpecial उत्कृष्टता के 100 वर्ष - जामिया मिलिया इस्लामिया : नैक वीडियो प्रस्तुति 2021 कोविड-19 के खिलाफ शीघ्र टीकाकरण के संबंध में कुलपति का संदेश जामिया स्कूल और सीबीएसई स्कूल परस्पर प्रवेश दे सकेगें (3 दिसंबर 2021) सेंटर फॉर डिस्टेंस एंड ऑनलाइन एजुकेशन में ऑनलाइन मोड के लिए प्रवेश खुला (18.11.2021)

left left
 

जामिया का प्रतीक चिन्ह

जामिया का प्रतीक चिन्ह

प्रतीक चिन्ह में सबसे ऊपर "अल्लाह ओ अकबर" के साथ एक सितारा रोशन है। अंधेरी रात में जब भटके हुए मुसाफिर जंगल को पार करना चाहते है और उन्हें कोई रास्ता नज़र नहीं आता तब वह सितारों की मदद से अपना रास्ता तय करते है। अल्लाह ओ अकबरका सितारा जामिया का निर्देशक सितारा है। इस की नज़रे उस सितारे पर टिकी रहती हैं जो कि इस अँधेरी दुनिया मे रास्ता दिखाता है।यह इस सच्चाई को दर्शाता है कि अल्लाह महान है और जो उसके आगे अपना सिर झुकाता है वह सच की खोज कर लेता है,जो उसके आगे झुकता है वह किसी और के आगे कैसे झुक सकता है? इस चमकते सितारे के नीचे एक किताब है जिस पर इबारत "अल्लमल इन्साना मालम यलम"(इंसान `को उसकी तालीम दें जो वह नहीं जानता)। यह कुरआन-ए-पाक़ है। पवित्र कुरान के माध्यम से, अल्लाह जाति, वर्ग, रंग के; मास्टर और गुलाम, के मतभेद का खुलासा करता है औरअपने सच्चे मतों को स्पष्ट करता है।यह ग्रन्थ अँधेरे से रोशनीकी तरफ ले जाता है,और स्वेच्छाचारियों एवं भटको को सीधे मार्ग पर लाता है।मोहम्मद साहब ने अपने जीवन को एक उदाहरण के रूप में प्रस्तुत किया। उन्होंने आंखों की रोशनी और दिलके जोश से,कुछ अच्छे लोगो का एक समूह तैयार किया जो संसार से बुराई को मिटा कर खुदा के सन्देश को फैला सके।किताब के दोनों तरफ दो खजूर के पेड़ है,यह अनूठी भूमि है जहां खुदा के आखिरी नबी पैदा हुए थे।यह उस बंजर घाटी का प्रतीकात्मक रूप है जहाँ कुछ भी पैदा नहीं होता था; लेकिन यहीं पर दीन के पौधे की जड़े जमी।यह दरख़्त उस धरती पर उम्मीद के प्रतीक हैं जहाँ कोई पौधा या फूल भी नहीं उग पाता था;वहां अचानक हिदाया की बसंत की फुहार फूट पड़ी और दिल वालों का एक समुदाय उससे सराबोर हो गया।वे लोग जो प्रतिकूल परिस्थितियों में निराश हो चुके थे उनके लिए यह सांत्वना का एक स्रोत था। बाह्य कारक उन्हें निराश कैसे कर सकते हैं?

बहुत नीचे चमकीला अर्द्ध चन्द्र है जिसका अर्थ जामिया मिल्लिया इस्लामिया है यह अर्द्ध चन्द्र छोटा है लेकिन जैसे चौदहवीं का चाँद विकसित होता है उसी प्रकार जामिया का विकास होगा इसका तात्पर्य यह है कि यह हमारे काम की शुरुआत है यह पूरे चन्द्रमा की तरह विकसित होगा और इसकी पूर्व संध्या के दर्शको के लिए रोशनी का एक स्रोत साबित होगा

डॉ. जाकिर हुसैन द्वारा लिखित