आप का स्वागत है | साइन इन       14 जुलाई, 2020     भाषा: English | हिंदी
फ़ॉन्ट का आकार : | अ- | अ+
   
New Document Notice regarding date of extension for online filling of admission forms (03.07.2020) Admissions of Foreign Studnets /NRIs wards under Supernumerary seats 2020-21 Letter of congratulation to the Deans/Directors/HoDs/Teaching/Non-Teaching Staff/Researchers/Students/Jamia Alumni (18.6.2020)

left left
 
Introduction

विधि संकाय

परिचय

विधि संकाय, जामिया मिल्लिया इस्लामिया में 1989 में स्थापित किया गया।आरम्भ में तीन साल के एल.एल.बी.पाठ्यक्रम की शुरुआत की गई। पिछले दो दशकों में, संकाय ने पाठ्यक्रम और पाठ्यचर्या की पुनर्रचना, नए पाठ्यक्रमों की शुरूआत करने, कानून की शिक्षा देने और इसके  नैदानिक कार्यक्रम को मजबूत बनाने की नवीन तकनीकों से प्रयोग के पुनर्गठन के मामले में कानूनी पेशे के क्षितिज का विस्तार करने पर जोर देते हुए महत्वपूर्ण प्रगति की है।

इन सतत प्रयासों के संबंध में, संकाय ने तीन वर्षीय एल.एल.बी.पाठ्यक्रम की जगह एक एकीकृत पांच वर्षीय बी.ए.एल.एल.बी.(आनर्स)पाठ्यक्रम शैक्षणिक सत्र2002-2003 से शुरू किया; दो वर्ष  के स्नातकोत्तर कार्यक्रम (एल.एल.एम.) तीन विशेष धाराओं-पर्सनल लॉ, कॉर्पोरेट कानून और आपराधिक कानून और एक पीएच. डी. कार्यक्रम, दोनों शैक्षणिक सत्र 2000-2001 से शुरू किये गये।

विधि संकाय ने विधिक सहायता कार्यक्रमों की एक पूरी श्रृंखला के एजेंडे के साथ एक कानूनी सेवा क्लीनिक की स्थापना की है। वास्तव में, हमारे संकाय के छात्रों ने राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान पैरा-कानूनी स्वयंसेवकों के लिए प्रशिक्षण लिया है। छात्रों ने विभिन्न मूट कोर्ट, क्लाइंट परामर्श, साहित्यिक तथा वाद विवाद गतिविधियों में भाग लिया और बहुत से पुरस्कार जीते। हमारे संकाय के छात्रो को  प्रतिस्पर्धा की दुनिया में चुनौतियों का सामना करने एवं एक समग्र व्यक्तित्व विकास पर ध्यान केंद्रित करने के अलावा पाठय तथा सह-पाठय योग्यता के विकास के लिए आवश्यक सुविधायें प्रदान की जाती हैं।

विधि संकाय कक्षाओं में मूट कोर्ट, अन्त:कक्षा मूट कोर्ट प्रतियोगिता एवं राष्ट्रीय मूट कोर्ट प्रतियोगिता का आयोजन करता है। वास्तव में,  मार्च 2011 में विधि संकाय द्वारा एक राष्ट्रीय कानून सुधार प्रतियोगिता का आयोजन किया जो कि भारत में अपनी तरह का पहला आयोजन था। हम विस्तार व्याख्यान के अलावा समय-समय पर भारत और विदेश से प्रसिद्ध वक्ताओं के सहयोग से राष्ट्रीय सेमिनारों और सम्मेलनों आयोजन करते हैं।

हमारे एक पूर्व छात्र ने 2011 में सिविल सेवा परीक्षा पास की। हमारे दो छात्र भारतीय सेना, न्यायाधीश अधिवक्ता सामान्य शाखा में चुने गए, जहां पूरे भारत से केवल दस महिलायें मार्च 2011 में चुनी गई थीं। एक छात्र पश्चिम बंगाल न्यायिक सेवा परीक्षा में अव्वल रहा। हमारे पूर्व छात्र दिल्ली न्यायिक सेवा, गुवाहाटी न्यायिक सेवा और हरियाणा न्यायिक सेवा के लिए चुने गए। 

संकाय के छात्रों को नियमित रूप से वकीलों, विधि फर्मों, कॉर्पोरेट और गैर-सरकारी संगठनों के साथ सर्दियों और गर्मियों की छुट्टियों के दौरान प्रैक्टिस करने के लिए भेजा जाता है। इसके अलावा,  पांच वर्षीय लॉ कोर्स के पाठ्यक्रम में चार गहन व्यावहारिक प्रशिक्षण मॉड्यूल भी शामिल है।

विधि संकाय कानूनी शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट संस्था बनने में प्रयासरत है।